fbpx
NEWHon'ble Prime Minister of India Shri Narendra Modi has inaugurated Kevadia Railway Station and flagged off 8 trains connecting Kevdia to various regions of the country on 17th January, 2021.

कैक्टस गार्डन (कैक्टस उधान)

कैक्टस गार्डन: स्टैच्यू ऑफ यूनिटी परिसर में स्थित कैक्टस गार्डन एक अद्वितीय वनस्पति उद्यान है, जिसे कैक्टि और रसीले व मांसल पौधों की विशाल विविधता को प्रदर्शित करने के लिए बनाया गया है। कैक्टस अनुकूलन के चमत्कारिक उदाहरण होते हैं। कैक्टस गार्डन को विकसित करने के पीछे रेगिस्तानी पारिस्थितिकी तंत्र का अनुभव प्रदान करने की सोच है जिसे एक जलीय क्षेत्र में बहुत सलीके से तैयार किया गया है। 25 एकड़ में फैली खुली ज़मीन और 836 वर्ग मीटर क्षेत्र वाले गुम्बद के भीतर 450 प्रजातियों के 6 लाख पौधे मौजूद हैं।

एक विशाल चमत्कारिक प्रदर्शनी: वास्तुशिल्प की दृष्टि से यह एक ऐसा भव्य  ग्रीनहाउस है, जो कैक्टि और रसीले-मांसल पौधों की लगभग 450 राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय प्रजातियों का पारिस्थितिक आवास है। ये कैक्टि और रसीली-मांसल प्रजातियां उत्पत्ति के हिसाब से दुनिया के 17 देशों का प्रतिनिधित्व करती हैं जो मुख्य रूप से उत्तर और दक्षिण अमेरिका तथा अफ्रीकी महाद्वीपों के हैं। खूबसूरत बनावती चट्टान इस विशिष्ट वनस्पति को समृद्ध बनाते हैं। यह उद्यान रंग-बिरंगे कैक्टि और रसीले-मांसल पौधों का एक मनमोहक लैंडस्केप तो है ही, साथ ही प्रकृति के रहस्यों का पता लगाने वालों उत्साही लोगों और विद्यार्थियों के लिए एक शैक्षणिक अवसर भी है।

उत्पत्ति: माना जाता है कि सभी रसीले-मांसल पौधों का जन्म सामान्य वातावरण में उगने वाले अन्य संबंधित पौधों से होता है। ऐसा उनके प्राकृतिक आवास की बदली हुई जलवायु स्थिति से अनुकूलन के कारण होता है, विशेष रूप से बारिश की मात्रा और अनियमितता के कारण। ज्यादातर कैक्टि उत्पत्ति की दृष्टि से मूलत: अमेरिकी हैं और इनका प्रसार विशाल क्षेत्रों में हुआ है, विशेष रूप से गर्म और शुष्क क्षेत्रों में।

          कैक्टस गार्डन की मुख्य विशेषताएं:

  • 8 किलोवाट का सौर पैनल
  • रसीले और कलमदार कैक्टि के उत्पादन के लिए नर्सरी

मिट्टी के कटाव को रोकने के लिए कटाव नियंत्रक आवरण लगाए गए हैं

  • कैक्टस गार्डन में प्रजातियां और पौधे:
  • पौधों की कुल संख्या: 0 लाख
  • कैक्टस पौधे: 9 लाख
  • रसीले पौधे: 6 लाख
  • सजावटी पौधे: 5 लाख
Close Menu